Monday, February 13, 2017

भारती की शायरी

                             ॐ

कुछ आशिकों  के  नाम  हो गए,
कुछ आशिकी में बदनाम हो गए,
कुछ  को  मुरादें  मिल  गयी,
कुछ  की  आज  भी  बाकी  है।

हमारा  क्या  हम  भी  कभी  मुसाफिर  हुआ  करते  थे।
मगर  मोहब्बत  हुई  है  जबसे  उनसे,
बस  मुसाफ़िर  बनकर  रह  गए  है
उनकी  गलियों  कै।

दिदार  उनका  ना  हुआ,
इन्कार  उनका  ना हुआ।
कैसे  लौट  आए,
अभी तो  इन्तजार  उनका  नहीं  हुआ।

ना  वो  कुछ  कह  सकती,
ना  मैं  कुछ  कहा  सकता।
ये  कैसी  मोहब्बत  है,
जिसमें  सिर्फ  खामोशी  और  तन्हाई  है।

सोचा  था  मैंने  ये, एक  दिन  चली  जाएगी  वो।
जब चली जाएगी  वो,  बहुत  याद  आएगी  वो ।
उसे  पाने  की  चाहत  मैं ,
मैं  अपने  इश्क  का  इजहार  कर  बैंठा।
मुझे  क्या  पता था ,
इजहार  करने के बाद मुझसे  दूर चली जाएगी  वो ।

शायद लगा होगा उसे भी,
कुछ वक्त  साथ  गुजारने  के बाद वो  जा  नहीं  पाएगी।


हौंसला  बुलंद  है मेरा,
मैं  एक  दिन  पा लूँगा  उसे।
मैंने  उसे  खोया  ही  कब  है,
खोया  तो  उसने  है  मुझे ।


हर  किसी  से  तुलना  हमारी  करना  मत,
पूरे  जहाँ  मैं  घुमने  के  बाद  भी  मेरा  जैसा  नहीं  मिलेगा ।
वक्त  तो  निकाल  सकता  हूँ  मैं,  मगर पैसा  नहीं  है।
शाहजहाँ  तो  नहीं  मगर  शाहजहाँ  की  तरह  ही हूँ,
बस  कोई  मुमताज  नहीं है ।

Written by Deewana writer virendra bharti
                    8561887634
Missing SHEETAL RAJAWAT






गजल एक भारती