Saturday, February 25, 2017

मैं  हुँ  पागल  छोरा 
सकल  से  काला  या  गोरा ।
दिल  से  बड़ा  अच्छा  हूँ 
थोड़ा  अभी  बच्चा  हूँ 

दुनिया  जो  कहे  मुझे  कहने  दो  उसे
यारों  मुझे  बस  मतलब  रखना  अपने  आप  से , 

जब  मैं  बनूँगा  बादशाह  ,
दुनिया  कहेगी  ये  भी  कभी  शाद  था।

जिस  जिस  ने  ठुकराया  मुझे 
मैं  भी  उसे  ठुकराऊँगा ,
जिसने  अपनाया  है
जान  उसी  को  दे  जाऊँगा ।

कहीं  मिले  है  आज  तक
जिंदगी  की  इन  राहों  में , 
कहीं  बिछड़  के  चले 
बहती  हुई   फिजाओं  मैं ।

कुछ  लोग  मुझे  भी  याद  है 
कुछ  लोगों  को  मैं  याद  हूँ।
जिन्हें  मैं  याद  हुँ
उनकी  मैं  फरियाद  हुँ ।

गजल एक भारती