Wednesday, November 2, 2016

मेरी कमजोरी विरेन्द्र भारती

मेरी कमजोरी तु है,
लेकिन मैं अपनी इस कमजोरी को ।
दुनिया को अपना हथियार नही बनाने दूँगा ।।

गजल एक भारती